इस्लाम के रोचक तथ्य | Interesting Facts about Islam in Hindi

इस्लाम के रोचक तथ्य | Interesting Facts about Islam in Hindi

  • सर्वशक्तिमान अल्लाह ने सबसे पहले उसके नूर से पवित्र पैगंबर मुहम्मद के नूर को बनाया।
  • पहला वयस्क पुरुष जिसने इस्लाम स्वीकार किया वह हजरत अबू बकर सिद्दीकी था और पहली महिला हजरत खादीजा थी।
  • अल्लाह को 99 नाम है और हर नाम का अलग मतलब है। जैसे ‘अल-रहमान’ का मतलब है ‘सबसे दयालु’, अल-हफी का मतलब है ‘सबका रखवाला’ आदि।
  • बच्चों के बीच पहले इस्लाम स्वीकारने वाले, हजरत अली; मुक्त गुलामों के बीच, हजरत ज़ैद बिन हारिथ; और दासों के बीच हजरत बिलाल था।
  • पैगंबर मुहम्मद की मजार को हजरत अबू तल्हा द्वारा तैयार किया गया था।
  • जिब्राइल, पैगंबर मुहम्मद की अदालत में 24000 बार आया था।
  • पैगंबर की प्रशंसा में लिखे काव्य “नाथ” (Naath) का पहला पद, यमन के राजा तब्बह (Tub’bah) द्वारा पैगंबर के जन्म से एक हजार साल पहले लिखा गया था। उन्होंने एक इच्छा भी लिखी थी जिसमें उन्होंने निर्देश छोड़ दिया था कि जब पवित्र पैगंबर मुहम्मद का जन्म होता है, तो प्रशंसा की इन पंक्तियों को उनके सामने प्रस्तुत किया जाय।
  • इस्लाम धर्म की मान्यताओं में बेटियों को वरदान माना जाता है।
  • पवित्र पैगंबर के पहले खलीफा सय्यिदुना अबू बकर सिद्दीकी थे।
  • सय्यिदुना “उमर” पहले व्यक्ति थे जिन्होंने सलातुल तराविह शुरू किया था।
  • काबा में खुले तौर पर पहली नमाज़ तब पढ़ी गई जब हजरत उमर ने इस्लाम कबूल किया था!
  • इस्लाम के पहले हफिजुल कुरान यानि जिसे कुरान कंठस्थ हो वह हजरत उस्मान ए गनी थे।
  • बुरखा या हिजाब का मतलब सिर्फ अपने आप को ढ़कना है। मुस्लिम महिला के लिए बुरखा पहनना अनिवार्य नहीं है, वे अन्य ढीले और मॉडर्न परिधान भी पहन सकती हैं। बस आपके शरीर का कोई हिस्सा दिखना नहीं चाहिए।
  • सय्यिदुना साद इब्न आबिल वक्कास मुहम्मद साहब के अभियानों में जीत के पहले सहाबी या साथी थे । वह 17 वें व्यक्ति थे जिन्होंने इस्लाम कबूल किया था और फारस के विजय के सेनानायक थे !
  • हजरत सय्यिदुना अबू यूसुफ पहले मुस्लिम मुख्य न्यायाधीश (काज़ी-उल-काजह) थे जो हारून रशीद के समय में हुए थे।
  • इस्लाम की पहला धार्मिक पुनर्जागरण या सुधार (मुजद्दिद) हजरत उमर बिन अब्दुल अजीज ने किया था।
  • हजरत उमर पहले व्यक्ति थे जिन्हें इस्लाम का सरदार (अमीरुल मोमिनीन) कहा गया।
  • 761 हिजरी में मिस्र के सुल्तान हसन पहले व्यक्ति थे जिन्होंने काबा की गिलाफ़ पर पवित्र कुरान की आयतों के साथ कशीदाकारी किया था!
  • पृथ्वी पर पहली इबादत तौबा (पश्चाताप) थी।
  • पैगंबर के बाद मक्का में पवित्र कुरान सुनाने वाले पहले व्यक्ति हजरत अब्दुल्लाह इब्न मसूद थे।
  • पहली बार चार रकात की नमाज़ मदीना में हिजरत के बाद पढी गई थी।
  • प्रथम फर्द की नमाज़ तहज्जुद बनाया गया जो बाद में नफिल हो गया।
  • पहली नमाज-ए-जनाज़ा मुहम्मद साहब द्वारा निष्पादित की गई थी असद बिन ज़रारा के जनाज़े में।
  • इस्लाम के पहले दुश्मन उत्बाह बिन रबी थे जो बद्र की लड़ाई में मारे गए थे।
  • हारित बिन अबी हालाह मक्का में इस्लाम के लिए अपनी जान देने वाले पहले सहाबी थे।
  • जुबैर बिन अव्वाम पहले व्यक्ति थे जिन्होंने इस्लाम के लिए अपनी तलवार उठाई।
  • इस्लाम की रक्षा के लिए पहली लड़ाई जो लड़ी गई वह 2 हिजरी के रमज़ान महीने की बद्र की लड़ाई थी
  • हजरत बुरैदा अस्लामी इस्लाम के पहले ध्वजारोही यानि झंडा फहराने वाले थे।
  • ईद-उल-फितर की पहली नमाज़ 2 हिजरी में मदीनातुल मुनव्वरा में अदा की गई।
  • “अल्लाहो अकबर” कहने वाले पहले व्यक्ति हजरत इब्राहिम थे ! जब उन्होंने हजरत इस्माइल में अल्लाह के लिए राम यानि सर्वोच्च समर्पण को देखा।
  • कहते हैं हजरत आदम के शरीर में रूह के आते ही सबसे पहला शब्द जो उन्होंने बोला था वह “अल्हम्दुलिल्लाह” था। जिसका अर्थ है “अल्लाह की प्रशंसा”
  • पहला व्यक्ति जिसने “सुबहान-अल्लाह” कहा वो हजरत जिब्राइल थे जब उन्होंने अर्श की सुंदरता को देखा। “सुबहान-अल्लाह” का अर्थ है की ईश्वर पूर्ण है।
  • प्रथम गुस्ताख़-ए-नबी यानि मुहम्मद साहब का अपमान करने वाला शैतान था।
  • पहला सजदा-ए-ताज़ीम या सजदा हजरत आदम के सम्मान में स्वर्ग की अप्सराओं ने किया था। सजदा-ए-ताज़ीम को पैगंबर मुहम्मद ने हराम कहा है!
  • पवित्र पैगंबर मुहम्मद की पहली पत्नी हजरत खादिजातुल कुबरा था।
  • हजरत खादीजा पैगंबर मुहम्मद की पत्नियों में पहली पत्नी थीं जिनकी मृत्यु हुई थी।
  • हज़रत कासिम पवित्र पैगंबर के पहली संतान थे। लेकिन उनकी प्रारंभिक अवस्था में निधन हो गया था।
  • हजरत खादीजा पहली व्यक्ति थीं पैगंबर के उम्मा की जिन्होंने नमाज़ पढा था।
  • हजरत अबू अयूब अंसारी का घर मदीना शरीफ में पहली जगह है जहां पैगंबर साहब रहे थे।
  • पवित्र कुरान की पहली कविता जो पैगम्बर पर नाजिल हुई थी “इकरा बी इसमी रब्बिकल लज़ी खलाक” थी। यह शुक्रवार को 27 अगस्त 610 हिज़री को हीरा की गुफा में नाजिल हुई थी।
  • हजरत जिब्राइल ने आसमान से सबसे पहली अज़ान दी थी।
  • पृथ्वी पर पहली बार अज़ान हजरत आदम द्वारा दिया गया था।
  • हजरत बिलाल ने वर्ष 1 hizri में पहली अज़ान दिया था जो “फज्र की नमाज” थी।
  • पैगंबर मुहम्मद ने पहली जुम्माह सालाह रबी-उल-अव्वल की 12 वीं पर, मदीना मुनवराह में किया।
  • पहली हज साल 9AH में फर्द बन गया
  • पहली फर्द उपवास असुरा (10 वीं मुहर्रम) का था। यह तो निरस्त माना गया था और 13 वीं, 14 वीं और हर चांद्र मास की 15 तारीख को फर्द उपवास बन गया। यह भी निरस्त माना गया था, और 2 AH में शवाल की 10 तारीख को, रमज़ान के पूरे महीने के लिए फर्द उपवास बनाया गया था।
  • इस्लाम का पहला युद्ध “गजवा अबवा” था।
  • हज़रत आदि बिन हातिम के द्वारा पहला सदक़ा दिया गया था।
  • पवित्र पैगंबर मुहम्मद ने मस्जिद-ए-नबवी में पहले मदरसा (सुफ्फः) की स्थापना की।
  • हजरत आदम भारत में पैदा होकर चालीस बार हज करने मक्का गए थे। ऐसी इस्लाम की मान्यता है।
  • हजरत आदम 100000 भाषाओं के जानकार थे।
  • क़ुरान को सुनना रमजान की नफिल इबादतें पढने से अधिक श्रेयस्कर व श्रेष्ठ हैं।
  • पवित्र पैगंबर के निर्देशों के तहत इस्लाम का प्रसार करने के लिए भेजे पहले व्यक्ति हजरत मुसाब बिन उमैर, जो मदीना के लिए भेजा गया था।
  • पहले मदरसा शिक्षक के रूप में नियुक्त हजरत मुसाब बिन उमैर था।
  • पहली मस्जिद, मस्जिद-ए-कुबा, जिसे पैगंबर ने खुद बनाया था। पवित्र काबा के बाद, मस्जिद-ए-नबवी और मस्जिद-ए-अक्सा के बाद, सबसे उत्कृष्टत मस्जिद, मस्जिद-ए-कुबा माना जाता है। इस मस्जिद में नमाज़ के दो रकात एक उमराह के सवाब के बराबर है।
  • सय्यिदुन्ना अमीर मुआविया ने अज़ान के उद्देश्य से मस्जिद में पहले मीनार का निर्माण किया था।
  • इमामत के लिए पहली मेहराब सय्यिदुना उमर बिन अब्दुल अजीज द्वारा बनाया गया था।
  • हजरत तमीम दारी पहले व्यक्ति थे जिन्होंने अपने दास, फतेह को मस्जिद-ए-नबवी में भेजा था मोमबत्ती जलाने के लिए ! इसके कारण मुहम्मद साहब ने उन्हें “सिराज” नाम दिया था।
  • इस्लाम का प्रथम शहीद सय्यिदुना अमार बिन यासिर था।
  • पहली महिला जो इस्लाम की पहली शहीद थी वो सय्यिदुना अमार बिन यासिर की माँ थी। उसका नाम सय्यिदा सुम्माया था!
  • हजरत उमर का मुक्त हुआ गुलाम मुहज्जाह पहला व्यक्ति था जो बद्र की लड़ाई में शहीद हुआ था।
  • इज्तीहाद यानी इस्लाम की संहिता बनाने वाला पहला व्यक्ति अबू बकर सिद्दीकी था।
  • हजरत अबू ज़रर गफ्फारी पहले दरवेश के रूप में जाना जाता है।
  • ह0 अब्दुल्लाह इब्न मजूम पहले व्यक्ति थे जो जन्नतुल बाकी में दफनाए गए। पवित्र पैगंबर मुहम्मद ने उन्हें यहाँ हिजरत के दुसरे साल में दफनाया। यहीं पर पैगम्बर मुहम्मद की कब्र भी है।
  • हजरत उमर जमात के पहले व्यक्ति थे जिन्होंने चार तकबीर के साथ जनाज़ा सलाह किया।
  • सय्यिदुना उमर पहले व्यक्ति थे जिन्होंने मुस्लिम कैलेंडर लेखन शुरू किया था।
  • सय्यिदुना साद वक्कास इब्निल पहले व्यक्ति काफिरों की दिशा में तीर चलने वाले पहले व्यक्ति थे।
  • इस्लाम छोड़ने वाले पहले व्यक्ति मुक़ीस बिन खुबाबा या उबैदुल्लाह बिन जहाश था।
  • पैगम्बर होने की पहली झूठी दावेदार मुसैलमा कज्ज़ब थी जिसने रसूल के समय में ही अपने पैगम्बर होने का दावा किया था।
  • मियांवाली, पंजाब, पाकिस्तान से अब्दुल्ला चकराल्वी पहले व्यक्ति थे जिन्होंने खुले तौर पर हदीस-ए-मुस्तफा को अस्वीकार किया था। उनका कहना है की केवल कुरआन ही इस्लाम की सच्ची मार्गदर्शक है।
  • पवित्र कुरान का पहला अनुवाद फारसी में था। सय्यिदुना शेख सादी शिराज़ी ने यह पूरा किया था।
  • पवित्र कुरान का पहला उर्दू अनुवाद साल 1774 में शाह रफीउद्दीन द्वारा किया गया था।
  • पृथ्वी पर पहला पर्वत बू क़ुबैस था, जो पवित्र काबा के पास है। जल प्लावन की घटना के बाद, हजर-ए-अस्वद इस पहाड़ के भीतर सुरक्षित रहा, और शेष से चंद्रमा का निर्माण हुआ।
  • पहला मानव जो पैदा किया गया वो सैय्यिदुना आदम था। और इनका जन्म भारत में हुआ था।
  • हिफ्ज़ की कक्षा और कुरान के अध्याय के अलावा बाकि समय कुरान को ऊँची आवाज़ में पढना हराम है।
  • काफिरों के लिए भेजे गए पहले रसूल हजरत नूह थे।
  • पहली मूर्ति पूजा हजरत नूह के समय में शुरू हुई थी।
  • पृथ्वी पर पहली हत्या उस समय हुई जब हजरत आदम के पुत्र क़ाबिल ने उसके भाई हाबिल को मार डाला।
  • पहला व्यक्ति जो नरक में डाला जाएगा वो क़ाबिल होगा।
  • पैगंबर के उम्मा में पहले व्यक्ति जो जन्नत में प्रवेश करेंगे वो हजरत अबू बकर सिद्दीकी होंगे।
  • पहले व्यक्ति जो क़यामत के दिन कब्र से जाग बाहर आयेंगे वो पवित्र पैगंबर मुहम्मद होंगे।
  • प्रथम व्यक्ति जो क़यामत के दिन कपड़े पहनेंगे वो हजरत इब्राहिम होंगे।
  • पहले व्यक्ति जो क़यामत के दिन सवालों के जवाब देंगे वो हजरत इसराईल होंगे।
  • जानवरों के बीच से, क़यामत के दिन जिसे जीवन मिलेगा वह पवित्र पैगंबर मुहम्मद के घोड़े को मिलेगा।
  • पहले व्यक्ति जो क़यामत के दिन तुम्हारी रक्षा करने के लिए होंगे वो पवित्र पैगंबर मुहब्बत होंगे।
  • पहले व्यक्ति जिन्हें जन्नत में पहले प्रवेश करने के लिए मिलेगा वो पवित्र पैगंबर होंगे।
  • जन्नत में पहला भोजन मछली का जिगर होगा।
  • देवदूतों ने पवित्र काबा की पहली बार निर्माण किया था।
  • यमन के राजा असद वह पहले व्यक्ति थे जिन्होंने पवित्र काबा पर गिलाफ़ यानी कपड़े से ढका था।
  • नातीला वह पहली अरब महिला थी जिसने पवित्र काबा को एक रेशमी कपड़े से ढका। नातीला, हजरत अब्बास इब्न अब्दुल मुताल्लिब की माँ हैं।
  • हजरत इदरीस ने पहली बार कलम का इस्तेमाल किया था।
  • हजरत इब्राहिम अपने और अपने बेटे का खतना करने वाले पहले व्यक्ति थे।
  • इब्राहिम पहले व्यक्ति थे जो सिला हुआ पतलून पहनते थे।
  • हजरत इब्राहिम पहले व्यक्ति थे जिन्होंने एक ऊँचे स्थान का निर्माण कराया धर्मोपदेश देने के लिए।
  • कंधे से कंधे को मिलकर आलिंगन करने वाले हजरत इब्राहिम थे।
  • कुरान का पचास अलग अलग भाषाओं में अनुवाद किया गया है।
  • केवल 26 पैगम्बरों का नाम कुरान में स्पष्ट रूप से दिया गया है।
  • केवल बारह देवदूतों ही बात कुरान में वर्णित है।
  • जैद बिन हारिथ के नाम को छोड़कर मुहम्मद साहब के किसी अन्य साथियों के नाम कुरान में स्पष्ट रूप से नहीं मिलता है।
  • सय्यिदा मरियम के नाम को छोड़कर कोई अन्य महिला का नाम कुरान में स्पष्ट रूप से नहीं आया है।
  • जिन्नातों में केवल शैतान का नाम कुरान में आता होता है।
  • इबलिश को आग से नहीं बल्कि ठंढ से दंडित नहीं किया जाएगा।
  • जो लोग शुक्रवार को या रमजान में मरते हैं वो अपनी कब्र में सवालों से बच जाते हैं।
  • इस्लाम के अनुसार मृत्यु के समय, एक व्यक्ति को 624000 दुखों का सामना करना पड़ता है।
  • किसी कब्र का सम्मान करना हर एक मुस्लिम का कर्तव्य है।
  • नमाज़-ए-जनाज़ा पढ़ने या मस्जिद के अंदर अज़ान देने को मकरूह माना गया है।
  • आत्महत्या हराम और एक महान पाप है, लेकिन एक आत्मघाती का जनाजा सालाह किया जाना चाहिए।
  • वह स्थान जहां अज़ान दी जाती है उसे किसी भी आपदाओं से उस दिन के लिए सुरक्षित रखा जाना चाहिए।
  • कब्र, किसी के घर और दूकान से अज़ान देना उसके लिए आशीर्वाद और दया का एक साधन है।
  • हरे और ताजा फूलों का पौधा कब्र पर लगाना अच्छा होता है क्यों की ये भी खुदा के नाम जप (तस्बीह) से कम नहीं है।
  • मल्फूज़त के अनुसार जन्नत केवल मानव मुसलमानों के लिए ही है।
  • एक औरत दूसरी बार शादी करती है, तो वह दूसरे पति के साथ जन्नाह (स्वर्ग) में होगी। (हदीस)
  • जन्नाह (स्वर्ग) में हजरत आइसा और हज़रत मरयम दोनों पत्नियाँ मुहम्मद साहब के साथ है।
  • हजरत फातिमा ज़हरा हालांकि मानव हैं, मासिक धर्म, आदि से मुक्त हैं। (फतवा रजविया)
  • रमज़ान और ईद को चाँद के भौतिक दृश्यता द्वारा या शरिया शहादत के अनुसार मनाया जाना चाहिए।
  • मुहर्रम की 10 तारीख को, जम-जम दुनिया के सभी शुद्ध पानी में मिलाता है।
  • आकाश से ऊपर है और सूरज, चाँद और सितारे सब आकाश के नीचे हैं।
  • सूर्य और चंद्रमा गति में हैं।
  • आकाश और पृथ्वी दोनों स्थिर हैं।
  • शराब, पीने, बेचने, स्पर्श, परोसने, रखने के साथ किसी से सौदा करना सब हराम है।
  • निकाह केवल खुशी और सहमति से किया जाना चाहिए।
  • मजाक हो या खेल खेल में ही कोई तलाक़ देता है, तो यह लागू हो जाता है।
  • दुनिया के सभी हलाल चीजों, अल्लाह को सबसे अधिक नापसंद तलाक़ है।
  • पुरुषों को महिलाओं के पोशाक और व्यवहार करते और महिलाओं के लिए पुरुषों की तरह व्यवहार और ड्रेस हराम है।
  • मर्दों को सोना पहनना हराम है।
  • पुरुषों को पहनने के लिए एक चांदी की अंगूठी जो चार मार्शा (औंस) से अधिक वजन का नहीं होना चाहिए।
  • चार पैगम्बर अभी भी शारीरिक रूप से जीवित हैं। हजरत ईसा और हज़रत इदरीस असमान में हैं और हज़रत खिद्र और हजरत इलियास पृथ्वी पर हैं।
  • हज़रत खिद्र और हजरत इलियास हज पर सालाना जाते है और वे जम-जम के कुँए पर पानी पीने के लिए मिलते हैं। इसके बाद, वे पूरे वर्ष के लिए खाने-पीने की जरूरत नहीं होती है।
  • इस्लाम में बच्चे के भ्रूण को मारने पर प्रतिबंध है। यदि उससे माँ को खतरा है तो ऐसा किया जा सकता है।
  • चार लोगों ने पूरी दुनिया पर विजय प्राप्त की जिसमें दो मुसलमान थे और दो काफिरों। दो मुसलमान हजरत जुल कारनैन और हजरत सुलेमान थे। दो काफिर नमरूद और बख्त नास्सर थे।
Thanks...🟢🟢🟢

और नया पुराने