नवजात शिशु की देखभाल कैसे करें? New born baby care tips

आपने सुना होगा की माँ बनने का एहसास होता है बहुत खास, इसके साथ ही पहली बार मां बनने का एहसास करने वाली कोई भी महिला उसी शिशु के साथ एक मां के रूप में जन्म लेती है ऐसे ने उसे अपनी नन्ही सी जान की केयर करने से संबंधित कोई भी जानकारी नहीं होती है

और नवजात शिशु की देखभाल करना बेहद ही सावधानी का कार्य होता है आज हम आपको इस लेख में बताएंगे कि कैसे आप अपने नवजात शिशु की देखभाल आसानी से कर सकते हैं तो आइए जानते हैं।

साफ सफाई का रखें ध्यान :-

शिशु की साफ-सफाई की देखभाल का कार्य सबसे अहम और सबसे पहला कार्य होता है यदि आप साफ सफाई पर ध्यान नहीं देंगी तो आप शिशु को हेल्थी रखने में नाकाम हो जाएंगी साफ सफाई रखने के लिए आप को ध्यान रखना है कि जब आप शिशु को गोद में ले तो हाथों को धो लें ऐसे में आपके हाथों के कीटाणु शिशु तक नहीं पहुंचेंगे।

गोद में लेने का तरीका :-

कई केस में ऐसा देखा गया है कि सही तरीके से शिशु को गोद में ना उठाने पर उसकी रीढ़ की हड्डी या गर्दन में दबाव बन जाता है जिससे आगे चलकर गंभीर समस्या का सामना भी करना पड़ता है ऐसे में आपको बहुत ही सावधानी पूर्वक शिशु को गोद में उठाना चाहिए आपको यह हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि शिशु की हड्डी बिल्कुल कोमल और मुलायम होती हैं उनमें हल्के दबाव से नुकसान पहुंच सकता है।

शिशु के होने पर क्या करें :-

लगभग आप सब जानती होंगी कि जब शिशु रोता है तो अक्सर कई लोग यहां में से ज्यादातर लोग उसे लेकर हिलाने लगते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं हमें ऐसा बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए ऐसा करने से शिशु के मस्तिष्क को काफी नुकसान पहुंच सकता है।

हवा में उछालना :-

कुछ लोग शिशु से खेलते समय उसे गोद में लेकर हवा में उछाल ते हैं डॉक्टर के मुताबिक ऐसा करना बेहद ही खतरनाक हो सकता है जरा सी सावधानी ना रखने पर सिक्योर जमीन पर भी गिर सकता है और बार-बार उसे हवा में उछाल में से लगने वाली झटके के कारण शिशु को हड्डी और ब्रेन से जुड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।


शरीर को टच में रखें :-

इस पर बहुत ही कम लोग ध्यान देते हैं पर क्या आप जानती है बहुत जरूरी शिशु को आप अपने सीने से लगा कर रखेंगे तो आपकी शरीर की गर्माहट दिल की धड़कनों को नियंत्रित करने में मदद करेगी अक्सर देखा जाता है कि ऐसा करने से शिशु का विकास तेजी से होता है।

शिशु का मस्तिष्क विकास :-

क्या आप जानते हैं आपके शिशु के मस्तिष्क का विकास करने के लिए आपका उससे बात करना बेहद जरूरी है या बात सुनने में तो अजीब लग सकती है लेकिन इससे मस्तिष्क का विकास तेजी से होता है और उसके मस्तिष्क में ध्वनि और शब्दों की आवाज क्षत्रिय रहती हैं जिससे शिशु जल्दी बोलने लगता है।

शिशु की त्वचा की देखभाल :-

एक हेल्थी बच्चा बार बार पेशाब करता है ऐसे में यदि आप उसके अंडर गारमेंट्स या उसके डायपर को बार-बार चेक नहीं करते हैं तो उसे स्किन प्रॉब्लम जैसे स्किन पर लाल चकते जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है आपको इस बात का बहुत ध्यान रखना है ऐसे में आप शिशु को होने वाली एलर्जी से भी बचा सकते हैं।

समझिए उसकी जरूरत :-

आपका शिशु बोल नहीं पाता है ऐसे में उसकी जरूरतों को समझना बहुत ही महत्वपूर्ण है आपको इस बात का बहुत ध्यान रखना है कि आप के शिशु को किस चीज की जरूरत है, ऐसे में बच्चे को स्तनपान जरूर करवाएं आपको हर 2 घंटे में शिशु को स्तनपान कराना बहुत आवश्यक है।

एक नवजात शिशु 24 घंटे में 16 से 18 घंटे की नींद लेना चाहता है और यह नींद से शरीर के लिए और उसकी दिमागी विकास के लिए बेहद जरूरी नहीं है शिशु को स्तनपान कराते समय आप यह जरूर देखने की आप की निप्पल साफ है इसका आपको खास ख्याल रखना है।

इसके अलावा आपको यह ध्यान देना है कि आपके स्तनपान कराने से बच्चे का पेट भर पा रहा है या नहीं या आपकी निप्पल से पर्याप्त दूध निकल पा रहा है या नहीं इस चीज का आपको का ख्याल रखना है और यदि ऐसा है तो अन्य विकल्प के तौर पर आपको बोतल में दूध भरकर देना चाहिए।

दूध की बोतल की सफाई कैसे करें :-

जब आप अपने नवजात शिशु को बोतल में दूध पिलाते हैं तो उसकी साफ सफाई भी बहुत आवश्यक हो जाती है ऐसे में आपको उस बोतल को गर्म पानी से साफ करना चाहिए और बॉतल के निप्पल को अच्छी तरह साफ कर ले नहीं तो यह बच्चे को बीमार कर सकता है।

शिशु को नहलाने का खास तरीका :-

लगभग हर मां की बड़ी परेशानियों में से एक के किस शिशु को कैसे नहलाएं ऐसे में आपको चाहिए कि सावधानीपूर्वक शिशु को बाथ टब में बैठा कर स्पंज की सहायता से महिलाएं जिससे आपके बेबी के शरीर पर कोई नुकसान ना हो और यह भी ध्यान रखें कि आप कोई अच्छे ब्रांड का सोप ही इस्तेमाल करें।

हल्की थपकि है ज़रूरी :-

आपको अक्सर अपने शिशु को सीने से लगाकर उसकी पीठ पर हल्की हल्की थपकी जरूर देना चाहिए जिससे कि उसके शरीर से हवा पास हो सके यह आप को स्तनपान कराने के बाद जरूर करना चाहिए। ऐसा करने से शिशु जरूरी बर्प ले पाता है।

शिशु को सुलाने का खास तरीका :-

अक्सर देखा जाता है कि नवजात शिशु की एकदम से मृत्यु हो जाती है बहुत ही कम लोग इसका असल कारण समझ पाते हैं और बहुत कम लोग इस पर ध्यान देते हैं आपको शिशु को पर्याप्त नींद देनी है साथ ही उसके बिस्तर का का ख्याल रखना है कि उस पर शिशु आराम से करवट बदल सके और बिस्तर को साफ रखें।

तो यह तरीके आपको एक पर्फेक्ट मां बनने में मदद करेंगे और इससे आपकी शिशु का विकास बहुत तेजी से होगा यदि आप लोगों को इस टॉपिक से संबंधित कोई सवाल पूछना है तो आप कमेंट करके पूछ सकते हैं हमारी टीम इसका जवाब अवश्य देगी ।
धन्यवाद।